लिंग का टेढापन, ढीलापन और नसों की कमजोरी के लिए उपाय

लिंग का टेढापन, ढीलापन और नसों की कमजोरी के लिए उपाय

आज हर व्यक्ति अपनी सेक्स की समस्या से सेक्स का अच्छे तरीके से मजा नहीं ले पा रहा है। कई लोग अपने लिंग में टेढ़ापन, ढीलापन और नशों की कमजोरी से परेशान है, जो उनके जीवन में सम्भोग करने की समस्या पैदा कर रही है। जो व्यक्ति इन सभी समस्याओं से घिरा हुआ है, वो सम्भोग के समय बहुत लज्जित होता है। ये लोग सभी तरह से सभी चीजों का इस्तेमाल करे चुके होते हैं पर उन्हें कोई भी फायदा नहीं होता है। बल्कि बाजारी उत्पादों को लेने के वजह से उनमे अन्य कई दोष पनपने लगते हैं।

यह एक ऐसी समस्या है जिससे विश्व के 50% लोग परेशान हैं, और वो बहुत ही जल्द इस समस्या से छुटकारा पाना चाहते हैं। इस समस्याओं की कई वजह हो सकती है, जैसे – बचपन की गलतियां, अनुवांशिक विकार, अधिक कामुक और अश्लील विचार करना, मन का शांत ना रहना, दुःख में रहना, लिंग की तरफ ध्यान ना देना, शरीर में पोषक तत्त्वों की कमी होना, अधिक दवाई का सेवन, चिंता करना, शरीर की प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होना, हस्तमैथुन की अधिकता और कई सारी गलतियां जिससे लोग बड़े ही गंदे तरीके से फंसे हुए हैं। हम यहाँ पर आपको कुछ ऐसे उपाय बताएंगे जिनका उपयोग कर आप इन सभी समस्याओं से अच्छी तरह से छुटकारा पा सकेंगे, और अपने सेक्स जीवन को सफल बना सकेंगे।

  • गिलोय – उत्तेजना प्रदान करने में गिलोय की बहुत बड़ी भूमिका है। गिलोय को आप पीस लें और फिर उसका लिंग पर लेप लगाएं, इससे आपके लिंग के कई विकार ख़त्म हो जाएंगे। आप गिलोय का जूस बनाकर इसमें 2 चम्मच शहद की मात्रा मिला ले, इसे लेने से लिंग में टेढ़ेपन, ढीलेपन, और नशों की कमजोरी की समस्या नहीं रहेगी।

लिंग के ढ़ीलेपन और नशों की कमजोरी के लिए उपाय

  • आंवला – आंवला गुप्त रोगों के लिए रामबाण साबित होता है। आप कच्चे आंवले का उपयोग भी कर सकते हैं। दुसरे तरीके से आंवले का चूर्ण आपके यौन समस्या को दूर कर सकती है। इसके लिए आप रोज सुबह एवं शाम को आंवला का चूर्ण एक पाव गाय के दूध के साथ पियें इससे आपकी धातु रोग की सारी समस्या दूर हो जाएगी और आपको इससे उत्तेजना भी प्राप्त होगी जो आपके लिंग को शख्त करेगी और तनाव देगी। आप आंवले का उपयोग इसका मुरब्बा बनाकर कर सकते हैं।
  • तुलसी – गुप्त रोगों की हर समस्या का इलाज तुलसी बड़ी अच्छी तरीके से कर सकती है। आप रोज सुबह खाली पेट तुलसी की 10 से 15 पत्तियों को रोज खाएं इससे आपको काफी लाभ मिलेगा। आप इसका शरबत के रूप में भी इस्तेमाल कर सकते हैं। 3 से 4 तुलसी के पत्ते मिसरी के साथ मिलाकर खाने से आपको जल्द ही लाभ मिलेगा, आप इस प्रक्रिया को दोपहर में खाना खाने के बाद इस्तेमाल करें। इस तरकीब को आप महीने भए आजमा के देख सकते हैं इससे आपके लिंग का ढीलापन, और नशों की कमजोरी दूर होगी।
  • सफेद मुसली – सफेद मुसली का चूर्ण गुप्त रोग पर बहुत ही अच्छे तरह से काम करती है। इसके लिए आप 10 ग्राम सफेद मुसली का चूर्ण 10 ग्राम मिसरी के साथ खा लें और अंत में आधा किलो दूध पी लें। इससे आपके यौन शक्ति में वृद्धि होगी, और आपके लिंग में खून तेजी से दौड़ेगी और लिंग शख्त हो जाएगा, जिससे लिंग के ढीलेपन की समस्या काफी हद तक दूर रहेगी। इस कोर्स को आप 20 दिन अपना कर देखिये आपको इससे काफी लाभ मिलेगा।
  • उड़द की दाल – उड़द की दाल सभी प्रकार के गुप्त रोग के लिए जानी जाती है। विशेष रूप से इसका उपयोग लिंग के ढीलेपन, और नशों की कमजोरी के लिए किया जाता है। उड़द की दाल को धीमे आंच में भून लें जब तक वह महकने नहीं लगती। इसके बाद 100 ग्राम उड़द की दाल को खांड के साथ सेवन करें इससे आपके लिंग में ढीलापन दूर हो जाएगा, और नशों की कमजोरी भी दूर रहेगी। इस क्रिया को आप 20 दिन आजमाकर असर देख सकते हैं।
  • जामुन की गुठली – जामुन की गुठली का चूर्ण बना लें और रोज सुबह गाय के ताजे दूध के साथ पियें इससे आपके लिंग में रक्त का संचार तेजी से होगा, जो लिंग के ढीलेपन को दूर कर नशों में रक्त का संचार कर देगा।
  • कौंच के बीज – कौंच के बीज का चूर्ण मिसरी के साथ लेने से आपकी समस्या में काफी बदलाव आएगा। कौंच के बीज का 5 ग्राम चूर्ण दूध के साथ लें इससे आपके लिंग की नशों में खून का बहाव होगा और आपका लिंग ढीलेपन से छुटकारा पा जाएगा।

लिंग के टेढ़ेपन के लिए उपाय

  • हर्बल तेल से लिंग की मालिश – लिंग की मालिश से आप लिंग के टेढ़ेपन से आजादी पा सकते हैं। लिंग में आप कोई भी हर्बल तेल जैसे- सरसों, आलमंड, जैतून, तिल आदि कई प्रकार के तेल से मालिश कर सकते हैं, जो आपके लिंग को सीधा बनाएंगे।
  • लिंग में मसाज – लिंग के मसाज के द्वारा आप अपने लिंग के टेढ़ेपन से छुटकारा पा सकते हैं। आप लिंग के मसाज के लिए उपयोग की जाने वाली कई तकनीक का उपयोग कर सकते हैं। यह तकनीक आपको 2 महीने के अन्दर अपना असर दिखायेगी।

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *